Basant Panchmi Per Nibandh 2022 | बसंत पंचमी पर निबंध

बसंत ऋतु का आगमन हमेशा सभी के चेहरों पर खुशी लाता है। वसंत पंचमी वसंत ऋतु के आगमन के लिए हमारे पूरे देश में मनाई जाती है और यह त्योहार हिन्दू देवी सरस्वती को समर्पित है। वसंत पंचमी ( Basant Panchmi ) हिंदू त्योहारों में से एक है। वसंत पंचमी के त्यौहार को भारत भर के लोगों द्वारा उनकी क्षेत्रीय विविधता के अनुसार अलग अलग रूपों में मनाया जाता है।

Basant Panchmi Per Nibandh 2022 | बसंत पंचमी पर निबंध

वसंत पंचमी के चालीस दिनों के बाद होने वाली होलिका की तैयारी का भी प्रतीक है उत्तर भारत में, वसंत पंचमी को हिन्दू देवी सरस्वती पूजा के रूप में मनाया जाता है। यह उत्सव भाषा, संगीत, कला और ज्ञान की देवी देवी सरस्वती को समर्पित है। इस दिन लोग सरसों के फूलों के प्रतीकात्मक प्रतिनिधित्व के रूप में पीले कपड़े पहनते हैं। यह वह समय होता है जब हमारे किसान के सरसों का खेत पीले फूलों से खिल जाते हैं। बसंत पंचमी हमारे देश की संस्कृति को दर्शाने वाले सुंदर उत्सवों में से एक उत्त्सव है।

बसंत पंचमी ( Basant Panchmi )की पूर्व संध्या पर लोग मंदिरों में जाते हैं और मां सरस्वती की मूर्ति पर पुष्प और जल चढ़ाते हैं। घरों में लोग सरस्वती पूजा भी पुष्प और जल चढ़ाकर करते हैं। बसंत पंचमी ( Basant Panchmi ) को लोग प्रसाद भी तैयार करते हैं जिसमें पिली मिठाई के साथ साथ विभिन्न फल शामिल होते हैं। भारत के उत्तरी भाग में तो कही कही सरस्वती पूजा पंडाल का आयोजन किया जाता है लोग खुशी-खुशी वहां जाते हैं और पूजा अनुष्ठान करते हैं। लोग पीले रंग के कपड़े पहनते हैं और मंदिरों और पंडालों में पूजा की रस्मों में शामिल होते हैं।

2047 Ka Bharat Essay in Hindi | मेरे सपनो का भारत

पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, असम और नेपाल में लोग इसे बड़े खुशी के साथ मनाते हैं। लोग अपने पास के मंदिरों में जाते हैं और देवी सरस्वती की पूजा करते हैं। कई परिवार इस दिन को अपने बच्चों के पहले लेखन और पढ़ने के कार्यक्रम के रूप में मनाते हैं। हमारे देश के स्कूलों और कॉलेजों में, वसंत पंचमी समारोह भी मनाया जाता है।

बसंत पंचमी ( Basant Panchmi ) को हमारे देश के लोग पीले रंग की कपड़े पहनते हैं और पूजा और प्रार्थना करते हैं। छोटी बड़ी लड़कियां भी पीली साड़ी पहनती हैं और उत्सव का आनंद लेती हैं। रिहायशी इलाकों और शिक्षण संस्थानों में भी विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

 

Leave a Comment

17 + 9 =