Chandrayaan-3 पर निबंध | Essay on Chandrayaan 3 in hindi

Chandrayaan 3 Essay in Hindi अगर आप भी और लोगो की तरह chandrayaan-3 पर निबंध की तलाश कर रहे हैं तो आप बिलकुल सही जगह आये हो क्योकि Chandrayaan 3 Par Nibandh आपको हमारी पोस्ट में आसानी से मिल जाएगा और अगर आप हिंदी में निबंध पढ़ते तो आप हमारी वेबसाइट gotohindi.in को याद कर लीजिये क्योकि आपको हमारी वेबसाइट में सभी निबंध हिंदी में मिलेंगे

Chandrayaan-3 पर निबंध | Chandrayaan-3 Essay in hindi

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने अपने सालों के अनुभव और समर्पण के साथ अंतरिक्ष में नए मील के संचार किए हैं। चंद्रयान-1 और चंद्रयान-2 के उदाहरण के बाद, अब भारत चंद्रयान-3 के माध्यम से अपने अंतरिक्ष अनुसंधान क्षेत्र में एक और महत्वपूर्ण पहलू को प्राप्त करने के लिए chandrayaan-3 भारत द्वारा 14 जुलाई 2023 को हरिकोटा से लॉन्च किया गया।

आपको बता दे इससे पहले भी ISRO द्वारा 2 बार चाँद पर उतरने की कोशिश की गई लेकिन उसमे पूरी तरह से सफलता नहीं मिल पाई इसके बाद भारत द्वारा 14 जुलाई 2023 को श्रीहरिकोटा से चंद्रयान-3 मिशन लॉन्च किया गया

Also Read – विज्ञान का महत्व निबंध हिंदी में

चंद्रयान 3 में ISRO द्वारा कई नहीं तकनीक जोड़ी गई जैसे की एक लैंडर और एक रोवर इन दोनों का ही अपना अलग अलग काम है क्योकि लैंडर चंद्रमा की सतह पर उतरकर रोवर को सारी जानकारी देगा और रोवर चंद्रमा की सतह पर रहकर इसरो को जानकारी देगा

२३ अगस्त २०२३ को शाम ६ बजकर ४ मिनट में चंद्रयान 3 ने चन्द्रमा के साउथ पोल में सफलतापूर्वक सॉफ्ट लैंडिंग की जिससे पूरा देश ख़ुशी से झूम उठा और इससे चाँद पर पहुंचने वाले देशो के साथ भारत का नाम भी जुड़ गया

चंद्रयान 3 के भारत के वैज्ञानिक ने चंद्रमा की सतह, वातावरण और इतिहास के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए डिज़ाइन किया हैं चंद्रयान 3 का सफल मिशन से भारत को चंद्रमा पर उतरने वाला चौथा देश बन गया और साउथ पोल में उतरने वाला पहला देश भारत बन गया

आपको बता दे चंद्रयान 3 की कुल लागत 615 करोड़ रुपये है जिसमे से लैंडर, रोवर और प्रोपल्शन मॉड्यूल की कुल लागत करीब 215 करोड़ और लॉन्च की लागत करीब 365 करोड़ रुपये है जो की बहुत दूसरे देशो की तुलना में बहुत कम है

Leave a Comment

3 × 5 =