Mahatma Gandhi Essay in Hindi | महात्मा गांधी पर निबंध

महात्मा गाँधी जी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ गाँधी जी द्वारा भारत को आजाद करवाने में मुख्य भूमिका निभाई थी जिसके कारण आज हम स्वतन्त्र भारत में है गाँधी जी को ही याद करते है हम प्रत्येक २ अक्टूबर को गाँधी जयंती मानते है

Mahatma Gandhi Essay in Hindi | महात्मा गांधी पर निबंध | जीवन परिचय Short Essay

गाँधी जी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद्र गाँधी था गाँधी जी सत्य के पुजारी थे गाँधी जी की माता का नाम पुतलीबाई और पिता का नाम करमचंद्र उत्तमचंद गाँधी था जो की राजकोट के दीवान थे महात्मा गांधी ने अपने जीवनकाल में कई आंदोलन किए, जिसमें चंपारण आंदोलन, खिलाफत आंदोलन, खेड़ा आंदोलन, नामक आंदोलन और भारत छोड़ो आंदोलन मुख्य रूप से शामिल है

महात्मा गाँधी जी की पत्नी का नाम कस्तूरबा गाँधी था जो की महात्मा गाँधी जी से 6 माह बड़ी थी। कस्तूरबा और गाँधी जी के पिता दोनों मित्र थे इसलिए उन्होंने अपनी दोस्ती को रिश्तेदारी में बदल दी। कस्तूरबा गाँधी ने महात्मा गाँधी जी का हर आंदोलन में सहयोग दिया था।

पोरबंदर में शिक्षा पूरी करने के बाद गाँधी जी ने राजकोट में माध्यमिक की परीक्षा पास की और उसके बाद वह वकालत की पढ़ाई करने के लिए इंग्लैंड चले गए और सन 1890 में एक वकील बनकर लौटे।

फरवरी 1919 में रॉलेट कानून जिसमे किसी भी व्यक्ति को बिना मुकदमा चलाये जेल भेजने का प्रावधान था जिसका उन्होंने विरोध किया और उसके बाद सत्याग्रह आंदोलन की वजह से तो ऐसा राजनीतिक भूचाल आया, जिसने 1919 के बसंत में पुरे उपमहाद्वीप को झकझोर कर रख दिया ।

इस सफलता के बाद महात्‍मा गांधी जी ने भारतीय स्‍वतंत्रता के लिए किए जाने वाले अन्‍य अभियानों में सत्‍याग्रह और अहिंसा के विरोध जारी रखे, जैसे कि ‘दांडी यात्रा, ‘असहयोग आंदोलन’, ‘नागरिक अवज्ञा आंदोलन’ तथा ‘भारत छोड़ो आंदोलन’। “अहिंसा परमो धर्मः” के सिद्धांत को नींव बना कर ही महात्मा गाँधी जी के इन आंदोलन और उनके प्रयासों के कारण भारत को 15 अगस्‍त 1947 को आजादी मिल गई।।

गाँधी जी बहुत अच्छे राजनीतिज्ञ के साथ बहुत अच्छे वक्ता भी थे। उनके द्वारा बोले गए वचनों को आज भी लोगों द्वारा दोहराया जाता है।

जिस प्रकार सत्याग्रह, शांति व अहिंसा के रास्तों पर चलते हुए महात्मा गाँधी जी ने अंग्रेजों को भारत छोड़ने पर मजबूर कर दिया, उसके जैसा आज तक कोई दूसरा उदाहरण विश्व इतिहास में देखने को नहीं मिला । तभी तो संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी वर्ष 2007 से गांधी जयंती को ‘विश्व अहिंसा दिवस’ के रूप में मनाए जाने की घोषणा की है।

mahatma gandhi essay in hindi 10 lines

  1. गाँधीजी का वास्तविक और पूरा नाम ‘मोहनदास करमचंद गांधी’ था।
  2. गाँधीजी का जन्म २ अक्टूबर १८६९ में गुजरात के पाबंदर जिले में हुआ था
  3. इसीलिए २ अक्टूबर को गाँधी जयंती एवं अहिंसा दिवस के नाम से भी जाना जाता है
  4. गाँधी जी के पिता का नाम करमचंद गाँधी था जो की एक दिवान थे
  5. गाँधी जी की माता का नाम पुतलीबाई था
  6. गाँधी जी की माता धार्मिक विचारों थी और उनका धर्म के प्रति काफी झुकाव था
  7. महात्मा गाँधी की पत्नी का नाम कस्तूरबा गाँधी था
  8. गाँधी जी ने कानून की पढ़ाई लन्दन से पूरी की थी
  9. इनको पुरे भारत में राष्ट्पिता के नाम से भी जाना जाता है
  10. गाँधी जी बहुत अच्छे राजनीतिज्ञ के साथ बहुत अच्छे वक्ता भी थे

कुछ और महत्वपूर्ण निबंध

विज्ञान का महत्व निबंध हिंदी में

Pariksha Pe Charcha Essay in Hindi परीक्षा पे चर्चा पर निबंध

मालवा के इतिहास पर निबंध

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के गुमनाम नायक पर निबंध हिंदी में

Leave a Comment

seven + two =